वार्षिक रिपोर्ट में कहा गया है कि उसे 31 मार्च, 2022 तक 19,650 आवेदन मिले, जिसमें रिफंड के कुल 82.31 करोड़ रुपये के दावे शामिल थे। इसमें से